Ram Bhakt Hanuman Logo

श्री राम भक्त हनुमान

English Website हनुमानजी श्री राम पूजन विधि


भगवान श्री राम जी की आरती

भगवान श्री राम की आरती में इनके रूप व्यक्तित्व परिवार आदि की महिमा का भक्तिमय वर्णन महाकवि तुलसीदास जी ने किया है | उन्होंने इस आरती के माध्यम से भक्तो के मन में बसे पाप को नष्ट करने की विनती भी की है | श्री रामचंद्र जी की आरती हिंदी में निचे दी जा रही है | आरती के बाद श्री राम चालीसा का पाठ भी जरुर करना चाहिए |

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भव भय दारुणं |
नव कंजलोचन, कंज - मुख, कर - कंज, पद कंजारुणं ||

श्री राम आरती   कंन्दर्प अगणित अमित छबि नवनील - नीरद सुन्दरं |
पटपीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमि जनक सुतवरं ||

भजु दीनबंधु दिनेश दानव - दैत्यवंश - निकन्दंन |
रधुनन्द आनंदकंद कौशलचन्द दशरथ - नन्दनं ||

सिरा मुकुट कुंडल तिलक चारू उदारु अंग विभूषां |
आजानुभुज शर - चाप - धर सग्राम - जित - खरदूषणमं ||

इति वदति तुलसीदास शंकर - शेष - मुनि - मन रंजनं |
मम ह्रदय - कंच निवास कुरु कामादि खलदल - गंजनं ||

मनु जाहिं राचेउ मिलहि सो बरु सहज सुन्दर साँवरो |
करुना निधान सुजान सिलु सनेहु जानत रावरो ||

एही भाँति गौरि असीस सुनि सिया सहित हियँ हरषीं अली |
तुलसी भवानिहि पूजी पुनिपुनि मुदित मन मन्दिरचली ||

दोहा
जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि |
मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे ||


राम नवमी पर कैसे करे पूजा जाने विधि
भगवान श्री राम की महिमा
कैसे राम से बड़ा राम का नाम है
श्री राम चालीसा पाठ
भगवान श्री राम के 108 नाम
श्री राम के मुख्य प्रसिद्ध मंदिर
हनुमान जी के प्रसिद्ध मंदिर