Ram Bhakt Hanuman Logo

श्री राम भक्त हनुमान

http://www.ramhanuman.in/

English Website हनुमानजी श्री राम पूजन विधि


हनुमान धारा मंदिर

हनुमान धारा के बारे में कहा जाता है की जब श्री हनुमान जी ने लंका में आग लगाई उसके बाद उनकी पूंछ hanuman dhara chitrkoot में लगी आग को बुझाने के लिए वो इस जगह आये जिन्हे भक्त हनुमान धारा कहते है | यह विन्ध्यास के शुरुआत में राम घाट से 4 किलोमीटर दुर है | एक चमत्कारिक पवित्र और ठंडी जल धारा पर्वत से निकल कर हनुमान जी की मूरत की पूँछ को स्नान कराकर निचे कुंड में चली जाती है |

पढ़े : हनुमान जी के प्रसिद्ध मंदिर भारत में

कैसे निकली यह धारा :

कहा जाता है की जब हनुमानजी ने लंका में अपनी पूँछ से आग लगाई थी तब उनकी पूँछ पर भी बहूत जलन हो रही थी | रामराज्य में भगवन श्री राम से हनुमानजी विनती की जिससे अपनी जली हुई पूँछ का इलाज हो सके | तब श्री राम ने अपने बाण के प्रहार से इसी जगह पर एक पवित्र धारा बनाई जो हनुमान जी की पूँछ पर लगातार गिरकर पूँछ के दर्द को कम करती रही | यह जगह पर्वत माला पर है जहा पहुँचने में 20 /30 मिनट लगते है |


हनुमान धारा की फोटो
सालासर बालाजी मंदिर मेंहदीपुर बालाजी मन्दिर
इच्छापूर्ण हनुमान मंदिर हनुमान गढ़ी अयोध्या